सैड शायरी,sad shayari in hindi

सैड शायरी,sad shayari in hindi

Author:
Price:

Read more





  • राम का अपमान सह नही सकता
  • आज मुसलमान हूँ पहले तो नही था

  • एक नजूमी के बहकावे में आ गया
  • मौत के इंतज़ार को ज़िन्दगी समझने लगाi

  • आपको लिखता देख
  • अब कुछ लिखने की आदत सी हो गयी है
  • सोचता रहा कुछ पल यूँ ही
  • तो अब सोचने की आदत सी हो गयी है

  • निकाला जो खुशियो ने महफ़िल से क्या डर
  • बुलाएगी ग़म-ए-महफ़िल मचल मचल कर
  • मैं उसके अश्कों के हफों को पहचानता हूँ
  • वो हज़ार लिखे ख़त नाम बदल बदल कर
  • बड़ा बेचैन है आज की रात ईश्राक़
  • वो भी होगी कहीं करवट बदल बदल कर

  • कितना कोई सोये
  • कोई कितना जगेगा
  • वक़्त तो कटता है
  • यूँही कटता रहेगा
  • नज़रों पे छाया है
  • जो इश्क़ का कोहरा
  • जब उम्र घटेगी
  • तब धुंद ये छटेगा

  • ख़ामोश सी एक परछाई की मैं आवाज़ हो गया
  • ग़म तबाही दर्द का आग़ाज़ हो गया
  • उसकी साँसों से कैद क्या हुआ
  • अपनी धड़कन से आज़ाद हो गया

  • पुरानी किताब को थामे हाथ में
  • यूँही एक रोज़ लेटे हुए छत पे
  • एक पन्ना पलटा हवा के झोंके से
  • कुछ पत्ते बिखरे सूखे से

  • ये उम्र कहाँ आराम की
  • अभी तो काम बाक़ी है
  • होगी शर्क न जाने कब
  • क्यों शुआ दिखती नहीं
  • क्यों सफ़र कटता नहीं
  • क्यों ये शब बाक़ी है
  • ये उम्र कहाँ आराम की
  • अभी तो काम बाक़ी है...

  • छोड़ो शहर के हालात ठीक नहीं
  • अभी तो जहाँ सारा बाक़ी है
  • ये उम्र कहाँ आराम की
  • अभी तो काम बाक़ी है....

  • गुज़रेगी उम्र निभते निभाते
  • अभी तो रिश्ते जहाँ के बाकी हैं
  • ये उम्र कहाँ आराम की
  • अभी तो काम बाक़ी है..
  • एक तू ही सबब नहीं जीने की
  • अभी तो दर्द तमाम बाक़ी हैं
  • ये उम्र कहाँ आराम की
  • अभी तो काम बाक़ी है...

  • हर लम्हा ज़िन्दगी गुज़रती जाती है
  • शब-बेदारी ख़त्म कर शर्क उभरती आती है
  • ये शिकायत है हम से हमीं को
  • क्या दूंगा जवाब में उसको
  • वो मेरे घर का मेहमान पूछेगा जो
  • हर बशर में शर क्यों नज़र आती है
  • हर लम्हा ज़िंदगी गुज़रती जाती है...

  • बढ़ते चले मंज़िल की जानिब
  • सोचते ही क़दम ठहर जाते
  • वो इशारे से ऐसे बुलाती है
  • रफ्ता रफ्ता मौत इधर आती है
  • शब बेदारी ख़त्म कर शर्क उभरती जाती है

  • वो जो लड़ता है हर हाल में
  • जाने क्या कहलाएगा
  • ढूँढेंगे एक रोज़ फिर से
  • शायद कहीं मिल जाएगा
  • पता ठिकाना मालूम नहीं
  • सफ़ेद पोश का साया है
  • पहले दीवाना ए ग़ालिब था
  • अब ख़ादिम-उल-गुलज़ार कहलाएगा

  • For love shayari in hindi/प्यार भरी शायरी हिंदी में